क्या भारत अपने सिद्धांतों के कारण पड़ोसी देशों से पिछड़ गया?

सच की निशानी होती है साहस। और जो साहसी है वो हार नहीं सकता। ये नाता तो आप जोड़ ही मत दीजिएगा कि जो सच्चा होता है वो कमजोर हो जाता है और हारने लग जाता है। मैं कह रहा हूँ जो आदमी सच्चा है वो मर तो सकता है पर हार देखने के लिए जिंदा नहीं बचेगा।

जिस सदेश का सबसे बड़ा और सबसे मान्य धर्मग्रन्थ ही कहता हो कि अर्जुन तू तो लड़ और ये सोच मत कि अंजाम क्या होगा। वो देश हार…

--

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

More from Medium

Christians Doing Business in a Competitive World.

Banner showing digital business

The radical potential of partnership

Moses stands on Sinai, holding tablets. Light emits from his face and a crowd stares at him in shock.

It Did Not End At The Cross!

Why Becoming an Environmental Manager Sent me into a Backward Sustainability Spiral

Baled plastic bottles stacked and wrapped together