कौन कमज़ोर कर रहा मेरे देश की युवा ताकत को

अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन ने पाया कि इस १२-१३ साल की अवधि में ही टीनएजर्स में और जवान लोगों में डिप्रेशन के मामले ५२ प्रतिशत से ६३ प्रतिशत तक बढ़े हैं। बहुत चौकाने वाला आंकड़ा है ये। क्यों डिप्रेशन इतने ज़बरदस्त तरीके से फैला है युवाओं में और किशोरों में, टीनेजर्स में? तो स्टडी कहती है कि संभवतया कारण है सोशल-मीडिया। प्रोफेसर जीन ट्वेंगे हैं, उन्होंने किताब लिखी है जिसका उन्होंने शीर्षक दिया है, “कॉन्फिडेंट…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org