किस दिशा जाऊँ?

किस दिशा जाऊँ?

प्रश्न: सर, बचपन से एक सपना था, लगता था कि डॉक्टर बनना है| फिर थोड़े बड़े हुए तो सोचा कि डॉक्टर नहीं, इंजीनियर बनना है| कुछ और समझ आयी तो सोचा कि राजनीति में चला जाऊँ क्योंकि मेरा सम्बन्ध राजनीति से भी रहा है, पर फिर किसी ने कहा कि इसमें तो कुछ नहीं है| फिर एक समय आया जब पक्का मन बना लिया कि सेना में जाना है| चयन भी हो गया,पर फिर परिवार से संदेश आया कि मत जाओ, मर जाते हैं| और अब आखिर में इंजीनियरिंग|

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org