कष्ट का निवारण पता होने पर भी कष्ट से मुक्ति क्यों नहीं मिलती?

प्रश्नकर्ता: आचार्य जी, जब हम किसी कष्ट में होते हैं, तो हमें कष्ट का निवारण पता होता है कि वहाँ से हो सकता है। लेकिन ये पता होने के बावजूद हम उस पर ध्यान नहीं देते हैं।

ऐसा क्यों?

आचार्य प्रशांत: नहीं पता है बेटा। कल सुन रहे थे न, गुरु साहब गा रहे थे, “सब सुख दाता राम है”? तुम्हारे जीवन में जब सुख आता है, तुम्हें ये ख्याल आता है कि…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org