कठिन परिस्थितियों में ज्ञान काम क्यों नहीं आता?

कठिन परिस्थितियों में ज्ञान काम क्यों नहीं आता?

प्रश्नकर्ता: आचार्य जी, बताया तो बहुत गया है कि विषम परिस्थितियों में भी व्यवहार कैसा करें पर जब वैसी विपरीत या विषम परिस्थितियाँ सामने आती हैं, तब सारा ज्ञान हिरा जाता है (खो जाता है) और आदमी अपना आपा खो बैठता है।

आचार्य प्रशांत: वह तो होगा ही, ज्ञान से थोड़े ही कुछ होता है, साधना करनी पड़ती है न। साधना करनी पड़ती है। ज्ञान साधना का विकल्प नहीं हो सकता, ज्ञान साधना में सहायक हो…

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org