एक-सौ-चालीस करोड़ लोग, और गोल्ड एक!

प्रश्नकर्ता आचार्य जी, आप हमेशा निगेटिव बात करते हैं। अभी आपने अपने ‘बचपन का प्यार’ वाले वीडियो में कहा कि “इन्डिया का यूथ (जवान पीढ़ी) फ़ालतू टिक-टॉक और रील्स बनाने में बिज़ी (व्यस्त) है, इसलिए इंडिया के ओलम्पिक मेडल्स नहीं आते” पर देख लीजिए कल ही नीरज चोपड़ा ने गोल्ड हासिल कर लिया, इण्डिया का यूथ किसी से कम नहीं।

आचार्य प्रशांत: कितनी आबादी है हिंदुस्तान की? एक-सौ-चालीस करोड़। एक-सौ-चालीस करोड़ लोग और…

--

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

More from Medium

The Metaverse is at the forefront of this Web 3.0 internet evolution.

New MiCA regulation, explained in 4 minutes!

A Swing Through TechWallet CEO Eugene Plotkin’s Jazz Record Collection

LIGHTNIFT NFT DATATHON: FOR A SUSTAINABLE NFTverse