आदत नहीं, औचित्य

प्रश्नकर्ता (प्र): प्राथमिकता और आदत में क्या अंतर है?

आचार्य प्रशांत (आचार्य): हर प्राथमिकता एक आदत है, इनमें कोई अंतर नहीं है। कोई भी आदत आकर नहीं कहेगी, ‘मैं एक आदत हूँ’। हर आदत यही कहेगी कि ‘मैं’…?

सभी श्रोतागण(एक स्वर में): प्राथमिकता हूँ।

आचार्य: प्राथमिकता हूँ। जिसको भी तुम प्राथमिकता कहते हो, वो सिर्फ़ आदत ही है।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org