आत्म-विश्वास से भरे मूर्खों को मत छेड़ो

जो लोग बिल्कुल ही अब डूब गए हैं आकंठ अहंकार में, उनको पूरा-पूरा आत्मविश्वास है कि वो जो कर रहे हैं, सहीं कर रहे है, उनसे बैठ कर के वाद-विवाद करना उचित नहीं है। श्रीमद्भगवद्गीता युद्धस्थल पर दी गई सीख है। कोरी सिद्धांतबाजी नहीं है। बहुत व्यवहारिक ग्रन्थ है।

श्रीकृष्ण कह रहे हैं कि देखो जो लोग अतिआत्मविश्वास से भरकर के सच्चाई को बिल्कुल एक तरफ रख चुके हो और झूठ में ही पूर्णतया लिप्त हो, ऐसो को…

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org