‘अल्लाह में यकीन रखो’ का अर्थ

तुम भगवान के पास भगवान को मांगने कब जाते हो,
तुम तो भगवान के पास वरदान को मांगने जाते हो।

इसलिए कुछ नहीं मिलता
न भगवान, न वरदान

याद रखना,

भगवान और वरदान अलग-अलग नहीं हो सकते।

भगवान एक ही वरदान दे सकता है,
उस वरदान का नाम भगवान है।

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org