अपराधी कौन?

भारत में कभी ऐसा नहीं हुआ है आजतक कि, यह सम्भावना है कि अगले दस-बीस साल में ही जो एवरेज टेम्परेचर है वह एक-दो डिग्री ही नहीं, तीन-चार डिग्री भी बढ़ सकता है, और याद रखना हम किसी छोटी जगह की बात नहीं कर रहे हैं, धरती के एवरेज टेम्परेचर की बात कर रहे हैं। कभी ऐसा नहीं हुआ कि बड़े-बड़े शहर, महानगर, खत्म होने की कगार पर खड़े हैं, उसमें से कुछ तुम्हारे भारतीय शहर भी हैं; मुंबई, कलकत्ता। दुनिया में कभी ऐसा नहीं हुआ कि आदमी के पास नाश की इतनी सामग्री हो कि धरती को सैंकड़ों बार…

--

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

More from Medium

How to be the audience to life.

Work by artist Dan Rawlings in Stroud, UK. Photograph by Agnes Davis

Nigel and our right to protest

Reality from the Perspective of a Human