अध्यात्म में ‘वीर्य बचाने’ की बात क्या है?

अध्यात्म में ‘वीर्य बचाने’ की बात क्या है?

प्रश्नकर्ता: अध्यात्म में वीर्य बचाने को बहुत ज़्यादा महत्व दिया जाता है।

आचार्य प्रशांत: किस उपनिषद् में लिखा है, “वीर्य बचाओ”?

प्र: नहीं, मैंने पढ़ा था।

आचार्य: किस उपनिषद् में?

ये तो ऐसा लग रहा है जैसे कि पुराना नारा हो, “वीर्य बचाओ, वीर्य बढ़ाओ।” ये कौन से उपनिषद् में लिखा है, किस संत ने ये गाया है, बताओ मुझे?

--

--

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org