अगर दिमाग कुछ नया पाने के लिए बेचैन हो

एक ख़ास चीज़ है जिसकी मन को आवश्यकता है, एक ख़ास बात है जो मन को जाननी है, कुछ भी साधारण - सामान्य नहीं चलेगा। जब वो विशिष्ट चीज़ आप मन को नहीं देते हैं जिसकी मन को आवश्यकता है तब मन हजारों छोटी - मोटी व्यर्थ चीज़ों के पीछे दौड़ने लग जाता है।

वह ख़ास चीज क्या है? इसे समझने की शुरुआत नकार के तरीके से करनी होती है। देखा जाता है कि कौन-कौन से रास्ते हैं जिन्हें हम पहले ही आजमा चुके हैं। और फिर ऐसे रास्तों…

--

--

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

आचार्य प्रशान्त - Acharya Prashant

रचनाकार, वक्ता, वेदांत मर्मज्ञ, IIT-IIM अलुमनस व पूर्व सिविल सेवा अधिकारी | acharyaprashant.org